» » गोविन्द चौधरीले तमलोपालाई भन्नुभयो, अग्रेज के जमाने के जेलर


काठमाडौ साउन २९ गते । गोविन्द्र चौधरी तमलोपाका यसअघि तमलोपाका महामन्त्री हुनुहन्थ्यो । नवलपरासीको रामग्राममा भएको पहिलो महाधिवेशनमा उहाँले पार्टी अध्यक्ष महन्थ ठाकुरका विरुद्धमा उम्मेदवारी दिने घोषणा गर्नुभएको थियो तर अध्यक्ष ठाकुरले पार्टीका नेताहरुलाई बोलाएर भन्नुभयो, यदि कसैले उम्मेदवारी दिन्छ भने म उम्मेदवार बन्दिन ।
त्यसपछि गोविन्द चौधरीले सोच्नुभयो, बृद्ध ठाकुर कति दिन नै बाँच्नु हुन्छ, उहाँलाई छाड दिएपछि राम्रै हुन्छ, ।
अरु अरु नेताले पनि चौधरीलाई आग्रह गरेका थिए महन्थ ठाकुरलाई छाड दिनका लागि । तर चौधरीले महन्थ ठाकुरलाई अध्यक्षमा छाडि दिएपछि अहिले आएर केन्द्रीय सदस्यमा थन्काई दिएको छ त्यो पनि मनोनितमा ।
पश्चिमका प्रभावशाली नेतामध्येका गोविन्द चौधरीको थारु समुदायमा राम्रो पकड छ । सद्भावना पार्र्टीमा पनि उहाँ महामन्त्री नै हुनुहुन्थ्यो । र, तमलोपाको स्थापनाकालबाट नै महामन्त्री थिए तर अहिले पार्टीलाई समावेशी नबनाएको गुनासो गर्दै उहाँले आफ्नो फेसबुकमा यस्तो लेख्नु भएको छ ः

तराइ मधेश लोकतान्त्रिक पार्टि का बहुप्रतिक्षित प्रथम महाधिवेशन का नतिजा बाहर आया । काफी कसरत 
और मेहनत हुआ, लगता है । कसरत और मेहनत मे संलग सभी माननियजन को मेरे तरफ से बहुत बहुत धन्यबद । नव नियुक्त सभी सथियो को बहुत बहुत बधाइ भी । हमारे नेता समाजिक न्याय पार अच्छा खासा ज्ञान रखते है । काफी अच्छा भाषण भी दे लेते है ।

भाषण का एक छोटा अंश

वही गरिब दलित धान काटता है, कोई छुत नही ।
चावल बनाता है तब, भी कोइ छूत नही ।
चावल पक जाने बाद खाने के सामय मे दलित खुद अछूत हो जाता है ।

इस पांडित्यपूर्ण भाषण से दलित गरिब खुस होजाता है । तालिया बजाता है, यह मान कर की अतित ने उसके साथ भलेही अन्याय किया हो लेकिन बर्तमान आज उसके साथ खडा है ।

प्रथम महाधिवेशन रुपी भंडारा मे सभी लोगो(आदिवासि, जनजाति, दलित, महिला, मुसलमान) ने मिलकर खीचडी पकाया अर्थात महाधिवेशन सम्पंन कराया । एक सन्त को समानुपातिक समावेशी रुप से प्रसाद बितरण कर देने लिए भन्डारी (भान्से) नियुक्त कर दिया ।

सामाजिक न्याय देखिए ?
आदिवासि जनजाति के आगे से प्रसाद (भोजन) का थालि गायब है । जो पुरे जनसख्या के नौ प्रतिसत से ज्यादा हिस्सेदार का सरोकारवाला है ।


दलित के आगे से प्रसाद (भोजन) का थालि गायब है । जो पुरे जनसख्या के साढे चार प्रतिसत से ज्यादा हिस्सेदार का सरोकारवाला है ।


मुसलमान के आगे से प्रसाद (भोजन) का थालि गायब है । जो पुरे जनसख्या के साढे चार प्रतिसत से ज्यादा हिस्सेदार का सरोकारवाला है ।

दुसरे नेता का भाषण जो बुद्धत्व प्राप्त् है ।

भाषण: भाइयो मधेश बदल गया है ?
और काम: लेकिन हमल नही बदलेंगे ?
क्यो ? : क्यो की अग्रेज के जमाने के जेलर है ?

मधेश इस मयने मे बदल गया है .

मधेश अच्छा भाषण से ज्यदा अच्छा काम चाहता है ।
भाषण के कसौटि पार काम को परखने का नजरिया हासिल कर लिया है, मधेश ।

समाजशास्त्र से बाहर कोइ राजनितिशास्त्र नही होता है । यही राजनिति का यथार्त है । ब्रिहद राजनितिक शक्ति निर्माण त. म. लो. पा. का जन्म का उद्घोष है । ब्रीहद राजनितिक शक्ति निर्माण का आधार क्या है ?

बडा बुद्धी ?
बडा दील ?
मधेश का समाजशास्त्र ? या
नेताओ का अर्थशास्त्र ?

गौर से बिचार किजिए अपना चेहरा भी नजर आएगा और नेताओ का चेहरा भी ?

About saharatimes patrika

«
Next
Newer Post
»
Previous
Older Post

No comments:

Leave a Reply

..